2022 Best Hindi Poems

शेर पर कविता | Poem on Lion in Hindi


 शेर "सरोजनी प्रीतम"

जंगल का राजा है शेर
यहाँ वहां यह भागे
किस दिन छुट्टी होती इसकी
अम्मा मुझे बता दें
इसकी छुट्टी कैसी?
करता बड़े बड़ों की छुट्टी
इसीलिए तो सबने
कर ली, कर ली कुट्टी

राजा

डिस्कवरी पर हमने देखा
एक तमाशा ऐसा
जंगल के राजा के पीछे
लगा जंगली भैंसा
पहले तो था खूब सताया
शेर ने उस भैंसे को
लेकिन उसके अत्याचारों
को सहता कैसे वो

भैंसे ने जो जोश में आकर
राजा को फिर पटका
अकड़ शेर में थी राजा की
पल में उसको झटका
शेरो को भी कभी कभी तो
सवा शेर मिल जाते हैं
अगर हौसला हो जाए तो
तख्त ताज हिल जाते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें