Short Poem In Hindi Kavita

हाथी पर कविता | Poem On Elephant In Hindi

 धम्मक धम्मक

धम्मक धम्मक जाता हाथी
धम्मक धम्मक आता हाथी

अपनी सूंड उठाता हाथी
अपनी सूंड गिराता हाथी
जब पानी जाता हाथी
भर भर सूंड नहाता हाथी

धम्मक धम्मक जाता हाथी
धम्मक धम्मक आता हाथी
कितने केले खाता हाथी
यह तो नहीं बताता हाथी

धम्मक धम्मक जाता हाथी
धम्मक धम्मक आता हाथी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें