2022 Best Hindi Poems

घर पर कविता | Home Poem in Hindi

 मेरा घर

मुझकों ऊंची मिले हवेली
या मिल जाए राजमहल
छप्पर की कुटिया हो चाहे
वृक्षों की छाया शीतल

मेरा घर ये नहीं बनेंगी
चाहें हो कितनी सुंदर
मेरी माँ जिस जगह रहेगी
वहीं बनेगा मेरा घर

अपना घर " विजय बहादुर सिंह"

सबसे अच्छा अपना घर
अपने घर पर है बिस्तर

छाया हरी भरी इसकी
मीठे मीठे इसके फर

आ जाना चुपचाप यहाँ
थक जाना तुम कभी अगर

धूप का जंगल एक कुआं
प्यास तुम्हारी लेगा हर

जानी पहचानी पोथी
जाने पहचाने अक्षर

जो चाहे जब आ जाना
क्षितिजों की सीमा छूकर
अपने घर पर है बिस्तर

सबका प्यारा घर

सदा यही तो कहती हो माँ
घर यह सिर्फ हमारा अपना
लेकिन माँ कैसे मैं मानूँ
घर तो यह कितनों का अपना?

देखो तो कैसे ये चूहे
खेल रहे है पकड़म पकड़ी
कैसे मच्छर टहल रहे हैं
कैसे मस्त पड़ी है मकड़ी

और छिपकली को तो देखो
चलती है जो गश्त लगाती
अरे कतारें बाँधे बाँधे
चींटी चींटी दौड़ी जाती

और उधर आंगन में देखो
पंछी कैसे झपट रहे हैं
बिल्कुल दीदी और मुझ जैसे
किसी बात पर झगड़ रहे हैं

इसीलिए तो कहता हूँ माँ
घर न समझो सिर्फ हमारा
सदा सदा से जो भी रहता
सबका ही है घर यह प्यारा

घर :अजय जनमेजय"

लकड़ी पत्थर ईंटों से
नहीं कभी घर बनता है

मम्मी से ही घर है घर
पापा से ही दर है दर
अगर नहीं मम्मी पापा
तिनका तिनका इधर उधर
यानी मम्मी पापा से
ही केवल घर बनता है

लकड़ी पत्थर ईंटों से
नहीं कभी घर बनता हैं

मेरे घर में

मेरे घर में हुई पुताई
भैया! समझो शामत आई
पूरे घर में मचा झमेला
बच्चे बड़े सभी ने झेला
कमरे किए जब खाली
सबसे ही मेहनत करवा ली

पापा तब आए उलझन में
कितना झुंझलाए थे मन में
कैसे बाहर हो अलमारी
कहाँ रखे ये चीजे सारी
बाहर सब सामान निकाला
घर लगता था गडबडझाला
हुआ कहीं गुम मेरा बस्ता

खोज खोज हालत थी खस्ता
गद्दे में जब उसको पाया
चैन तब कहीं जाकर आया
सात दिनों तक हुई पुताई
घर में फिर रौनक थी आई
फिर से सब सामान सजाया
हिप हिप हुर्रे सबने गाया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें