2022 Best Hindi Poems

घड़ी पर कविता | Hindi poem on clock

 घड़ी पर कविता | Hindi poem on clock

घड़ी ढूंढकर लाए कौन

घंटाघर की चार घड़ी
एक दिखाई नहीं पड़ी
भुल्लू भाई यों बोले
हम तो सारे दिन डोले
जब देखा तब तीन रहीं
एक घड़ी खो गई कहीं
दादा बोले रुकों जरा
है इसमें कुछ भेद भरा
तुमने यह बात जो कहीं
लगती उतनी नहीं सही
मगर तुमकों समझाए कौन?
घड़ी ढूंढकर लाए कौन?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें