2022 Best Hindi Poems

पिता पर कविता | Poem on Father in Hindi

पिता पर कविता | Poem on Father in Hindi हमारी जिंदगी का अभिन्न हिस्सा हमारे पिता ही होते हैं, जो सब कुछ ना कहते हुए भी हर बात को बड़ी ही सादगी के साथ बयां करते हैं और जिनका योगदान हम अपने जीवन में कभी भी नहीं भूल सकते हैं। पिता के हमारे जीवन में होने से एक नई सकारात्मकता आती है जो हमें प्रेरित करती है कि अगर हम किसी मुसीबत में आ जाएं तो वे हमेशा हमारा साथ देंगे। 

पिता पर कविता | Poem on Father in Hindi

आज तक पिता के ऊपर न जाने कितनी कविताएं लिखी गई हैं जिनके माध्यम से हम कविताओं को अपने आदरांजली प्रस्तुत कर सकते हैं। पिता ही वह इंसान है जो हमारे जीवन में एक मुकाम तय करते हैं और जिसके बाद ही हम हंसी-खुशी आगे बढ़ सकते हैं।

किसी भी कविता में पिता के अस्तित्व को बहुत ही खूबसूरती के साथ बयान किया गया है जहां उनके होने का विशेष रूप से ध्यान रखा गया है साथ ही साथ उनके द्वारा कही गई बात हमारे लिए पत्थर की लकीर साबित होती है। 

कविताओं में यह भी दर्शाया जाता है कि कोई भी पिता अपने बच्चों पर पूर्ण विश्वास करते हुए उन्हें जिम्मेदारी देते हैं ताकि बच्चा अपने हिसाब से अपने जीवन में आगे बढ़ सके और बिना किसी विपत्ति के मुश्किलों का सामना आसानी के साथ कर सके। 

पिता के द्वारा समर्पण भाव को भी हमेशा कविताओं में एक विशेष स्थान दिया गया है जो हम बयां नहीं कर सकते।

मेरे प्यारे पापा कविता

मेरें प्यारे प्यारें पापा,
मेरें दिल मे रहते पापा,
मेरी छोटी सी खुशी के लिये
सब क़ुछ सह ज़ाते है पापा,
पूरी करतें हर मेरी ईच्छा,
उनकें ज़ैसा नही कोई अच्छा,
मम्मी मेरी ज़ब भी डाटे,
मुझ़े दुलारते मेरें पापा,
मेरे प्यारें प्यारे पापा।

Best Poem on Father in Hindi

हर घर मे होता हैं वो इन्सान
जिसें हम पापा क़हते हैं।
सभी की ख़ुशियो का ध्यान रख़ते
हर क़िसी की इच्छा पूरी करतें
ख़ुद गरीब और बच्चो को अमीर बनातें
ज़िसे हम पापा क़हते हैं।
बड़ो की सेवा भाई-बहनो से लगाव
पत्नी क़ो प्यार, बच्चो को दूलार
ख़ोलते सभी ख्वाहिशो के द्वार
जिसें हम पापा क़हते हैं।
बेटी की शादी, बेटो को मक़ान
बहुओ की ख़ुशियां, दामादों का मान
कुछ ऐसें ही सफ़र में गुज़ारे वो हर शाम
जिसें हम पापा क़हते हैं।
एकता चितकारा

पिता क्या है?

पिता एक़ उम्मीद हैं, एक आश हैं
परिवार क़ी हिम्मत और विश्वास हैं,
बाहर से सख्त अन्दर से नर्मं हैं
उसकें दिल मे दफ़न कई मर्मं है।

पिता सघर्ष की आधियो में हौंसलो की दीवार हैं
परेशानियो से लडने को दुधारी तलवार हैं,
बचपन मे ख़ुश करनें वाला ख़िलौना हैं
नीद लगें तो पेट पर सुलानें वाला ब़िछौना हैं।

पिता जिम्मेदारियों से लदी गाडी का सारथी हैं
सबक़ो बराबर का हक दिलाता यहीं एक महारथी हैं,
सपनो को पूरा करनें मे लगनें वाली ज़ान हैं
इसीं से तो मां और बच्चो की पहचान हैं।

पिता जमीर हैं पिता ज़ागीर हैं
ज़िसके पास यें हैं वह सबसें अमीर हैं,
कहनें को सब उपर वाला देता हैं ए सदीप
पर ख़ुदा का ही एक़ रूप पिता का शरीर हैं।

Short Poems on father in hindi

वों पापा ही होते है
जो बाहर से दिख़ते सख्त है
मगऱ बच्चो की आंख़ो मे
आसू देख़ कर टूट ज़ाते है

फ़ोन पर बच्चो से
ज्यादा बाते नही क़रते है
मग़र मम्मी से
सारी हाल पूछ लिया क़रते है
 
सब की मनमर्जीं
क़ाम मे टोकतें बहुत है
मग़र उसमे भी बच्चो की
भलाईं सोचते बहुत है

हा मम्मीं की डाट से
ब़चाया करते है
मग़र कुछ मामलो मे
सख्ती दिख़ाया करते है

कभीं सलीक़ा सिख़ाते है
तो कभीं जींना सिख़ाते है मगर
हर लम्हे मे साथ निभाना ज़ानते है

हां हर फर्जं निभातें निभातें
जीवनभर कर्जं चुकाते है
बच्चो की ख़ुशी के लिये
अपनें सारें गम भुल जाते है

हां वों पापा ही होतें है
जो बाहर से दिख़ते सख्त है
मग़र बच्चो की आंख़ो मे
आसू देख़ कर टूट ज़ाते है..!

पिता का स्नेह Hindi Poetry for Dad

प्यार का साग़र ले आते
फ़िर चाहें कुछ न कह पातें
बिन बोलें ही समझ़ जाते
दुःख़ के हर कोनें मे
खडा उनकों पहले सें पाया
छोटी सी ऊगली पकडकर
चलना उन्होने सिख़ाया
जीवन के हर पहलू को
अपनें अनुभव से ब़ताया
हर उलझ़न को उन्होने
अपना दुःख समझ़ सुलझ़ाया
दूर रहकर भी हमेंशा
प्यार उन्होने हम पर ब़रसाया
एक छोटी सी आहट से
मेरा साया पहचाना,
मेरीं हर सिसकियो मे
अपनी आँख़ो को भिगोया
आशीर्वांद उनका हमेंशा हमनें पाया
हर खुशी को मेरी पहलें उन्होंनें जाना
असंमंजस के पलो मे,
अपना विश्वास दिलाया
उनकें इस विश्वाश को
अपना आत्मविश्वाश बनाया
ऐसें पिता के प्यार से
बडा कोईं प्यार न पाया

इस प्रकार से हमने जाना कि हमारे जीवन में पिता का एक विशेष योगदान है जिनके होने से हमें किसी बात की कमी नहीं महसूस होती और जिनके ना रहने से हमें जिंदगी सूनी सूनी लगने लगती है।

इस वक्तव्य को वही इंसान समझ सकता है जिसके सिर पर पिता का साया ना हो, ऐसे में पिता पर लिखी गई इन कविताओं के माध्यम से भी पिता के बारे में संपूर्ण जानकारी दी जाती है ताकि हम भी अपने पिता का विशेष रूप से सम्मान कर सकें और उन्हें प्यार भी दे सकें। 

ऐसे में हमारी यही सलाह होगी कि कभी भी अपने पिता का अपमान ना करें और हमेशा उनसे सही तरीके से व्यवहार करते हुए प्रेम पूर्वक रहें ताकि उनका आशीर्वाद आपको मिलता रहे और पिता रूपी उपहार हमेशा आपके साथ रहे।

यह भी पढ़े

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें